गरमी का मौसम शुरू होते ही बालों की समस्याएं ज्यादा परेशान करने लगती हैं. ऐसे में इस मौसम में बालों की अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है. इस बारे में मुंबई के ‘क्यूटिस स्किन सौल्यूशन’ की त्वचारोग विशेषज्ञा डा. अप्रतिम गोयल बताती हैं कि गरमी के मौसम में बालों की नमी खो जाती है. वे बेजान हो कर झड़ने लगते हैं. मगर कुछ बातों का ध्यान रख कर बालों को इस मौसम की परेशानियों से बचाया जा सकता है. जी हां, गरमी में भी आप के बाल सिल्की और शाइनी दिख सकते हैं. कैसे, यह हम आप को बताते हैं…

स्टिकी हेयर प्रौब्लम का निदान

सिर की त्वचा में चिपचिपेपन की वजह से बाल चिपके और बेजान से नजर आते हैं. इस से सिर की स्किन पर रूसी अधिक होने की आशंका रहती है, जिस से बालों का झड़ना शुरू हो जाता है. ऐसे में रखें इन बातों का ध्यान:

1 सब से पहले ऐसे शैंपू का चुनाव करें, जिस में मौइश्चराइजर न हो.

2 हर दूसरे दिन शैंपू करें ताकि बालों में तेल जमा न हो सके, क्योंकि इस से प्राकृतिक रूप से मलासेजिया नामक फफूंद उत्पन्न होती है, जो डैंड्रफ का कारण बनती है.

3 चिपचिपे बालों के लिए हमेशा ठंडे पानी का प्रयोग करें.

4 कंडीशनर का प्रयोग न करें.

5 अधिक कंघी न करें. इस से तेलग्रंथियां उत्तेजित होती हैं.

6 बालों को धोने के बाद उन के सूखने से पहले उन्हें कस कर न बांधें. गीले बालों में पसीना आने से वे चिपचिपे हो जाते हैं.

7 प्रोटीन से भरपूर भोजन लें, क्योंकि प्रोटीन की कमी से बाल बेजान हो जाते हैं.

8 बाहर निकलने से पहले बालों को ढक लें.

9 बारबार बालों को न छुएं, क्योंकि इस से हाथों में मौजूद तेल उन में लग जाता है और वे स्टिकी हो जाते हैं.

तैलीय स्कैल्प का उपचार

1 स्कैल्प में कई सिबेशन ग्लैंड्स बनी होती हैं, जिन से सीबम निकलता है, जो बालों के लिए बहुत लाभदायक होता है. यह बालों को रूखा और बेजान होने से बचाता है. मगर इस के अधिक मात्रा में रिसाव से बाल औयली हो जाते हैं. ये टिप्स अपना कर इस परेशानी को दूर किया जा सकता है:

2 तैलीय स्कैल्प के लिए भी गरमी के मौसम में शैंपू का प्रयोग हर दूसरे दिन करें.

3 अगर आप डेली वर्कआउट या व्यायाम करती हैं, तो शैंपू का प्रयोग रोज करें, क्योंकि इस मौसम में पसीने से स्कैल्प की रक्षा करना जरूरी है.

4 अगर स्कैल्प औयली है तो कभी-कभी ड्राई शैंपू का भी स्प्रे बालों में कर सकती हैं. यह स्कैल्प के औयल को सोख कर बालों को चिपचिपा होने से रोकता है. बाहर जाने से पहले ड्राई शैंपू सब से अच्छा विकल्प है.

5 गरमी के मौसम में स्कैल्प पर तेल लगाना बंद कर दें, क्योंकि अगर स्कैल्प औयली है, तो तेल उसे और अधिक तैलीय बना सकता है. इस मौसम में ऐंटी डैंड्रफ शैंपू जिस में ऐंटी फंगल हो ज्यादा प्रयोग करें, जिस में कीटोकोनाजोल और सैलिसिलिक ऐसिड हो.

झड़ते बाल और प्रदूषण से बचाव…

डा. अप्रतिम के अनुसार एक स्टडी में पाया गया है कि यूथ, जो अधिकतर शहरों में काम करते हैं, उन्हें स्कैल्प में खुजली, औयली स्कैल्प, डैंड्रफ और बालों के झड़ने की समस्या अधिक होती है. इसकी मेन वजह लगातार प्रदूषण का बढ़ना है. अगर स्कैल्प में धूलमिट्टी, निकल, लीड, आर्सेनिक आदि जमा हो जाएं, तो बालों के झड़ने की समस्या शुरू हो जाती है. इस परेशानी से बचने के ये उपाय हैं:

1 क्लींजिंग सब से अच्छा उपाय है. इस के लिए बालों को बीचबीच में शैंपू कर साफ रखें. औयली स्कैल्प के लिए अल्टरनेट डे और ड्राई या रंगे बालों के लिए शैंपू की फ्रीक्वैंसी कम रखें. याद रखें, इस मौसम में स्कैल्प और बालों को हमेशा साफ और हैल्दी रखें, ताकि हेयरफौल कम हो.

2 इस मौसम में बालों की डीप कंडीशनिंग करना बहुत जरूरी है, क्योंकि इस से प्रदूषण से डैमेज हुए बालों का ड्राई होना, टूटना, झड़ना आदि कम हो जाता है. सप्ताह में 1 बार डीप कंडीशनिंग अवश्य करें.

3 ऐंटीऔक्सीडैंट सप्लिमैंट्स लेने बहुत जरूरी हैं. ताकि हेयर डैमेज को रोका जा सके. ओरल विटामिंस, मिनरल्स, ऐंटीऔक्सीडैंट बालों को सुरक्षा देने के अलावा उन की ग्रोथ भी बढ़ाते हैं.

4 बालों को प्रदूषण से बचाने के लिए कंडीशनर का प्रयोग करें ताकि यह स्कैल्प और बालों पर बैरियर का काम करे.

आजमाएं ये 3 घरेलू हेयर मास्क…

ऐलोवेरा मास्क बहुत अच्छा हेयर केयर मास्क है. इस के जैल से ड्राई हेयर और प्रभावित स्कैल्प की मसाज करें. 20 मिनट बाद हलके गरम पानी से धो कर माइल्ड शैंपू करें.

2-3 स्ट्राबेरी को कुचल कर उस में 2 बड़े चम्मच मेयोनेज मिला कर मास्क तैयार कर स्कैल्प पर लगाएं. स्ट्रोबेरी तेल के रिसाव को नियमित करती है, जबकि मेयोनेज नमी प्रदान करता है. इसे भी 20 मिनट तक लगा कर स्कैल्प को धो लें.

केला, शहद और औलिव औयल को मिला कर कंडीशनर तैयार कर 20 मिनट तक लगा रहने के बाद में धो लें. यह बहुत ही फायदेमंद कंडीशनर है.

Tags:
COMMENT