आंखों की सुंदरता के लिए जरूरी यह है कि उस के आसपास की स्किन भी सुंदर हो. इससे आंखों की सुंदरता बढ़ जाती है. आंखों में होने वाली कुछ बीमारियों से उनके आसपास की स्किन खराब हो जाती है. इसलिए जरूरत इस बात की है कि इन बीमारियों से बचाव कर के आंखों को सुंदर बनाया जाए. ये बीमारियां किसी भी उम्र में हो सकती हैं. इनमें आदमी, औरतें और बच्चे सभी शामिल हैं. इन बीमारियों में पलकों में होने वाली रूसी, पलकों पर गांठ बनना, आंख आना, आंखों का रूखापन, डार्क सर्कल्स, भवों और पलकों के बीच चकत्तेनुमा हलके उभार प्रमुख हैं. आइए जानते हैं इन बिमारियों के बारे में…

1. डार्क सर्कल्स से पाएं छुटकारा

आंखों के आसपास की स्किन को खराब करने वाली सब से बड़ी बीमारी को डार्क सर्कल्स कहा जाता है. इस बीमारी में आंखों के चारों तरफ काले घेरे बन जाते हैं. यह कालापन नींद की कमी, मानसिक तनाव, शारीरिक थकान, भोजन में विटामिंस और दूसरे तत्त्वों की कमी से होता है. इसे दूर करने के लिए भरपूर नींद लें. तनाव कम करें. भोजन में फलों व हरी सब्जियों का प्रयोग खूब करें. खूब पानी पीएं. खीरे को काट कर आंखों के ऊपर रखने से डार्क सर्कल्स हटाने में मदद मिलती है.

2. पलकों में डैंड्रफ होने से बचें

eyes-dandruff

पलकों में होने वाली रूसी से आंखों के आसपास की स्किन खराब हो जाती है. रूसी से पलकों में लगातार खुजली होती है. पलकों के बालों में रूसीनुमा पपड़ी सी जम जाती है. इससे पलकों पर भारीपन महसूस होता है. कभी-कभी सूजन भी आ जाती है. इस बीमारी से पलकें झड़ने लगती हैं. उसके आसपास की स्किन पर चकत्ते पड़ जाते हैं और वह बदरंग हो जाती है. जिन के सिर के बालों में रूसी होती है उन में यह बीमारी जल्दी हो जाती है. इसके अलावा गंदे हाथों से बार-बार पलकों को छूना, प्रदूषण वाले माहौल में रहना, खराब आईलाइनर, मसकारा, काजल, आर्टीफिशियल आईलैंस का प्रयोग करने, किसी दूसरे का प्रयोग किया कौस्मैटिक लगाने, जिन्हें यह बीमारी हो उन का तौलिया, तकिया, रूमाल आदि प्रयोग करने से यह बीमारी हो जाती है.

पलकों में रूसी की परेशानी हो तो सब से पहले बालों की रूसी का इलाज कराना चाहिए. इसके लिए उस शैंपू का प्रयोग करें, जिस में रूसी को खत्म करने की ताकत हो. यह शैंपू स्किन को नुकसान न पहुंचाता हो. जब भी बाहर से घर आएं एक बार कुनकुने पानी से पलकों को साफ कर के उन की सिंकाई जरूर करें. साफ हाथों से धीरे-धीरे मालिश करें. रूई की कुछ छोटी-छोटी गोलियां बना लें. फिर इन्हें थोड़े से पानी में उबाल कर थोड़ा ठंडा होने पर गोलियों का पानी निचोड़ कर पलकों के किनारों की इन से सिंकाई करें.

किसी अच्छी क्रीम को हाथ में थोड़ा सा ले कर पलकों और पलकों के किनारों पर ऊपर से नीचे की ओर कम से कम 15 से 20 बार हल्के दबाव के साथ मालिश करें. ऊपर की पलकों की मालिश पैरों की ओर देखते हुए करें. नीचे की पलकों की मालिश ऊपर देखते हुए करें. यह काम रात को सोने से पहले करें और ऐसा करने के बाद कभी भी आंखों में किसी तरह का कोई मेअकप न करें.

3. पलकों पर गांठ बनना

eyes

पलकों पर गांठ बन जाने को बिलौनी कहते हैं. इससे आंख के आसपास की स्किन काली पड़ जाती है. बिलनी की गांठ को दबाने से आमतौर पर दर्द नहीं होता है. केवल गांठ सी बन जाती है जो आंखों के आसपास की स्किन को खराब कर देती है. आंखों की खूबसूरत शेप बिगड़ जाती है. पानी और कपड़े की सिंकाई और मलहम की मालिश से यह परेशानी आमतौर पर ठीक हो जाती है.

अगर गांठ बार-बार निकले तो होथियार हो जाएं. इस का इलाज आंखों के डौक्टर से मिल कर करें. कभी- कभी ज्यादा मीठा खाने से भी यह परेशानी बढ़ जाती है. चश्मे का नंबर बढ़ने से भी ऐसा हो जाता है. अगर गांठ लंबे समय से हो और बड़ी हो तो डाक्टर से जरूर मिलें.

कभी-कभी यह बिलौनी आंखों के अंदर या बाहर की तरफ निकलती है तो बहुत दर्द करती है. इसके लिए भी कुनकुनी सिंकाई फायदेमंद होती है. अगर परेशानी इससे ठीक न हो तो डौक्टर से मिलें. वे इस जगह पर लगाने के लिए मलहम और आंखों में डालने के लिए आईड्रौप दे सकते हैं, जिससे यह परेशानी जल्दी ठीक हो जाती है. ये दाने आंखों की सही तरह से सफाई न करने से हो जाते हैं. मसकारा या आईलाइनर लगाने और रात को सोने से पहले उन को निकालने में सावधानी नहीं बरतने से ऐसा हो जाता है.

4. नाखून को आंखों से रखें दूर

eyes-rub

आंखों की श्लेष्मला में एक त्रिकोण जैसी भद्दी मटमैली चीज आंखों के अंदरूनी कोने से स्वच्छ पटल की ओर बढ़ने लगती है. इसका सिरा स्वच्छ पटल की ओर होता है. यह ज्यादातर आंख के नाक वाले कोने की तरफ से शुरू होता है. कभी-कभी यह बड़ी गोल पुतली की दोनों तरफ हो जाता है. यह आंखों में दाग का काम करता है. आंखों की सुंदरता को खराब करता है. यह अकसर गंदे पानी, धूल, धुआं और धूप से लाल होने वाली आंखों में होता है. इससे आंखें बदसूरत हो जाती हैं और यह आंखों में चुभने भी लगता है.

अगर नाखूनों के बढ़ने की रफ्तार ज्यादा है तो तत्काल डाक्टर से मिलें. धूप में निकलने से पहले रंगीन चश्मे का प्रयोग करें. चश्मा ऐसा हो जो आंखों को पूरी तरह ढक ले, जिस से आंखों को सीधे सूर्य की रोशनी न लगे. धूप, धुआं और धूल से आंखों को बचाएं. आंखों को ढकने के लिए अच्छी टोपी भी पहन सकते हैं. औपरेशन के जरीए ही इसे हटाया जा सकता है. यह औपरेशन आंखों के डाक्टर द्वारा किया जाता है और आसान होता है.

5. कंजक्टिवाइटिस से बचें

conjunctivitis

आंखों का लाल होना, उन में कीचड़ आना, दर्द होना, पलकों का आपस में चिपक जाना और आंखों में जलन होना, आंख आना यानी कंजक्टिवाइटिस कहलाता है. यह अकसर मौसम बदलने और बीमार आदमी के संपर्क में आने से होता है. जब आप बीमार आदमी का तकिया, रूमाल और तौलिया इस्तेमाल करते हैं तो कंजक्टिवाइटिस हो जाता है. आमतौर पर जब घर में किसी एक को यह बीमारी हो जाती है तो दूसरे लोगों को भी यह बीमारी हो जाती है. कुछ सावधानियां बरत कर इस से बचा जा सकता है. जब भी इस रोग के रोगी के संपर्क में आएं तो हर बार अपने हाथों को साबुन से अच्छी तरह जरूर धोएं. इस तरह के रोगी की देखभाल सावधानी से करनी होती है. इस के लिए साफसफाई का पूरा खयाल रखना चाहिए.

पानी को उबाल कर थोड़ा ठंडा हो जाने दें. इस के बाद आंखों को इस से साफ करें और रूई के गोलों में पानी ले कर आंखों की सिंकाई भी करें. आंख में लाली और सूजन ज्यादा हो तो बर्फ से भी इस की सिंकाई की जा सकती है. डाक्टर की दी गई दवा आंखों में डालें. इस से लाभ होगा.

6. पलकों और पलकों के बीच पीले रंग के चकत्ते

yellow-in-eyes

पलकों और पलकों के बीच पीले रंग के चकत्ते बन जाते हैं. इस से कोई बहुत नुकसान नहीं होता. यह देखने में खराब लगता है. इसे काट कर निकाला जा सकता है. यह आमतौर पर स्किन की बीमारी होती है. इसे किसी तरह की क्रीम, लोशन और टैबलेट से दूर नहीं किया जा सकता है.

7. आंखों में रूखापन होने से बचें

eyes-dry

आंखों में चुभन, रगड़न, जलन का होना, आंख का लाल हो जाना, चिपचिपा लगना और धुंधला नजर आना आंखों में रुखेपन की निशानी है. इस का कारण आंसुओं का अच्छी तरह से न बनना होता है. पलकों के ठीक से न खुलने और बंद होने से भी यह रोग हो जाता है. कम पानी पीने और मेनोपौज होने वाली औरतों को भी यह बहुत होता है. एअरकंडीशन में ज्यादा समय बैठने वालों को भी इस तरह की परेशानी हो जाती है. सही देखभाल और डाक्टर की सलाह से इसे दूर किया जा सकता है.

edited by rosy

Tags:
COMMENT