नाक के आस पास होने वाले पिगमेंटेशन सबसे कॉमन प्रोब्लेम्स में से आते है जिसका सामना लगभग हर किसी को करना पड़ता है. इसके होने का सबसे मुख्य कारण है नाक का सूरज की किरणों की चपेट में ज्यादा आना. इनसे बचने के उपाय बता रही हैं दादू मेडिकल सेंटर की डर्मेटोलॉजिस्ट और संस्थापक और अध्यक्ष, डॉ निवेदिता दादू

नाक हमारे शरीर का वो हिस्सा है जो सबसे ज्यादा सूरज की किरणों से प्रभावित होता है. नाक के आस पास होने वाले पिगमेंटेशन के कई सारे कारण हो सकते है. जैसे हार्मोनल चेंज, हार्मोनल ट्रीटमेंट, अनेक तरह के स्किन केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करना और मेलानिन जो स्किन के कलर में बदलाव के लिए कारक होता है.

1. नाक के आस पास होने वाले पिगमेंटेशन को रोकने के लिए आप अपने डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह पर अनेक तरह के क्रीम्स जैसे - हाइड्रोक्विनोन, ट्रेटीनोइन. इन्हे ट्रिपल क्रीम भी कहते है.

2. ऐसे स्किनकेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें जिसमें एजेलिक एसिड और कोजिक एसिड की मात्रा ज्यादा हो. यह स्किन के डार्क एरिया को लाईट करने में मदद करते है.

3. अपने डर्मेटोलॉजिस्ट की सलाह पर आप अनेक तरह के मॉडर्न ट्रीटमेंट जैसे माइक्रोडर्माब्रेशन, केमिकल पील, लेज़र ट्रीटमेंट और लाईट थेरपी का इस्तेमाल कर सकते है. यह नाक के आस पास होने वाले पिगमेंटेशन को कम करने में मदद करता है.

ये भी पढ़ें- 6 टिप्स: पिंपल से पाना हो छुटकारा तो घर पर बनाएं क्‍लींजर

4. नाक के आस पास होने वाले डार्क पिगमेंटेशन को कम करने के लिए आप कम से कम सूरज की किरणों की चपेट में आए. और जब भी बाहर निकलें तो सनस्क्रीन लगा कर ही निकलें.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT