कंगना रनौत और विवादो का चोली दामन का साथ हो गया है. वह अक्सर विवादों में रहती हैं. दूसरी तरफ उनकी बहन रंगोली चंदेल हर किसी को बुरा-भला कहती रहती है. हाल ही में फिल्म ‘‘जजमेंटल है क्या’’ के गाने के प्रमोशन के मौके पर कंगना रनौत ने एक पत्रकार से पंगा लेकर एक नए विवाद को जन्म दे दिया.

सात जुलाई, रविवार को मुंबई में एकता कपूर निर्मित फिल्म ‘‘जजमेंटल है क्या’’ के एक गाने के लौंच के मौके पर कंगना रनौत और पीटीआई के पत्रकार जस्टिन राव के संग चली तीखी बहस के बाद धीरे-धीरे कलाकार व पत्रकार के बीच संबंधों में कड़ुवाहट खुलती जा रही हैं. इसमें कंगना के साथ-साथ उनकी बहन रंगोली चंदेल का भी अहम योगदान है. अफसोस की बात यह है कि रंगोली चंदेल इस प्रकरण को पूरी तरह से राजनीतिक रंग देने में भी लगी हुई हैं.

ये भी पढ़ें- इटली में पति के साथ छुट्टी मना रही है टीवी की ‘चंद्रनंदिनी’

क्या हुआ था…

सात जुलाई को फिल्म ‘‘जजमेटल है क्या’’ के एक गाने की लौंचिंग थी, जहां फिल्म की निर्माता एकता कपूर, कंगना रनौत, राज कुमार राव के अलावा फिल्म की लेखक, निर्देशक के साथ ही प्रिंट मीडिया और टीवी चैनल के पत्रकार मौजूद थे.

जैसे ही पीटीआई के पत्रकार जस्टिन राव सवाल पूछने के लिए खड़े होकर अपना नाम बताया, तो उनका नाम सुनते ही कंगना ने उससे कहा कि उसने ‘मणिकर्णिका’ के समय उनके और उनकी फिल्म ‘‘मणिकर्णिका’’ के बारे में बहुत बुरा लिखा था. आखिर वह इतना बुरा कैसे सोच लेता है. कंगना के इस आरोप को पत्रकार जस्टिन ने सिरे से खारिज कर दिया. उसके बाद कंगना और पत्रकार के बीच साढ़े छह मिनट तक तूतूमैमैं चलती रही. किसी तरह एकता कपूर ने मामले को शांत किया और मसला वही खत्म हो गया.

रंगोली ने खोला पत्रकार के खिलाफ मोर्चाः

लेकिन उसके बाद कंगना की बहन रंगोली चंदेल ने इस विवाद की आग में घी डालते हुए अपने ट्विटर हैंडल से जस्टिन राव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. रंगोली ने पत्रकार को झूठा साबित करते हुए जस्टिन के कुछ पुराने ट्वीट भी पोस्ट किए और बहुत कुछ अनर्गल बातें लिख दी. सोमवार को रंगोली चंदेल ट्विटर पर पत्रकारों के खिलाफ लगी रही. दिन भर ट्विटर पर कंगना, रंगोली और पत्रकार के पक्ष और विपक्ष में हंगामा होता रहा.

ये भी पढ़ें- ‘आर्टिकल 15’ की एक्ट्रेस ने मुंडवाया सिर, जानें क्या है वायरल फोटो का सच

इंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड ने लिया कंगना के बौयकाट फैसलाः

मंगलवार, नौ जुलाई की दोपहर तक सभी पत्रकार एकजुट हो गए और फिर ‘इंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल’’ ने एक जुट होकर कंगना का बायकौट करने और उनसे माफी की मांग कर दी.

रंगोली ने ट्वीटर पर पत्रकारों को कहा देशद्रोही

इसके बाद रंगोली ने अपने ट्विटर हैंडल से सारे पत्रकारों को गालियां देते हुए लिखा कि कंगना कभी माफी नही मांगेगी. रंगोली ने अपने ट्वीट में लिखा- ‘‘एक बात का मैं वादा करती हूं कि कंगना से अपोलौजी तो नहीं मिलेगी इन बिकाऊ, नंगे, देशद्रोही, देश के दलाल, लिबरेटेड, मीडियावालों को. मगर वो तुमको धो-धो कर सीधा जरूर करेगी…जस्ट वेट एंड वौच..तुमने गलत इंसान से माफी मांगने के लिए कहा है.’’

रंगोली कर रही है राजनीतिक रंग देने की कोशिश

इसके बाद इस ट्वीटर पर कुछ दर्शकों ने अपनी प्रतिक्रिया दी. जिसके जवाब में रंगोली ने ट्वीट किया कि कंगना बीजेपी ओर मोदी की समर्थक है, इसलिए लोग उनकी जान के दुश्मन बने हुए हैं. रंगोली ने अपने ट्वीट में यह लिखा कि मोदी को सपोर्ट करने के बाद लिबरल्स कंगना की जान के दुश्मन बन गए हैं. उन्होंने आगे लिखा कि यही जस्टिन राव ब्लश करता हुआ कंगना के आगे पीछे घूमता था. गौरतलब है कि जस्टिन वही पत्रकार हैं ,जिनसे रविवार को प्रेस कौफ्रेंस बहस हो गई थी.

ये भी पढ़ें- ‘बिग बौस 13: सलमान खान ने मांगी डबल फीस, इतने करोड़ करेंगे चार्ज

रंगोली ने एक और ट्वीट पर लिखा कि अब वह दुश्मन बन गया है. उन्होंने लिखा कि कैसे वह मणिकर्णिका जैसे राष्ट्रीय नायक का मजाक उड़ा सकता है. उन्होंने आगे लिखा कि सरकार को उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही करनी चाहिए.

रंगोली के इस ट्वीट पर जहां कइयों ने उन्हें समर्थन दिया. तो कई लोगों ने उनसे कंगना द्वारा पत्रकार पर लगाए गए इल्जामों का भी सबूत मांगा है.

एकता कपूर से मुलाकातः

इधर ट्वीटर पर दिन भर युद्ध चलता रहा. तो उधर ‘‘इंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल’’के प्रतिनिधि मंडल ने फिल्म ‘‘जजमेंटल है क्या’’ की निर्माता से मंगलवार 9 जुलाई की शाम सात बजे उनके आफिस में मुलाकात कर उन्हें एक पत्र थमाया और एकता कपूर को बता दिया कि वह कंगना रानौट का बायकौट कर रहे हैं, लेकिन इससे उनकी फिल्म पर कोई असर नहीं होगा.

प्रतिनिधिमंडल ने एकता को लिखे पत्र में कहा, ‘हमने एक गिल्ड के रूप में मिल जुलकर कंगना का बहिष्कार करने और उन्हें मीडिया कवरेज नही देने का फैसला किया है. प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि इस बहिष्कार का फिल्म और उसकी बाकी टीम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. पत्रकारों ने एकता से कहा कि जब तक कंगना रविवार की घटना के लिए माफी नही मांग लेती, तब तक वह भविष्य के उनके कार्यक्रमों का बहिष्कार करते रहेंगे.

एकता कपूर के साथ बैठक में मौजूद रहे पत्रकारों ने कहा कि ‘इंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट गिल्ड’ के सदस्यों ने एकता कपूर और कंगना से सार्वजनिक रूप से माफी मांगने के लिए कहा है. पत्रकारों ने कहा कि कंगना की आगामी फिल्म ‘जजमेंटल है क्या’की निर्माता एकता ने माफीनामा जारी करने पर सहमति जताई और रविवार की घटना को लेकर खेद प्रकट किया.

विवाद की असली जड़ः

इस विवाद की जड़ें मार्च में पत्रकार द्वारा किए गए उस ट्वीट से जुड़ी हुई हैं, जिसमें उसने कंगना की फिल्म ‘मणिकर्णिकाः द क्वीन औफ झांसी’ की पाकिस्तान में रिलीज पर सवाल उठाया था. पत्रकार जस्टिन ने उस वक्त अपने ट्वीट में लिखा था- उरी और पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के एक इवेंट में जाने की वजह से कंगना ने शबाना आजमी और दूसरे सेलेब्स पर भड़की थी. मैंने उनसे पूछा था कि फिर उसी उसी हमले के बाद उन्होंने अपनी फिल्म ‘मर्णिकर्णिका’ पाकिस्तान में रिलीज कैसे की, इस पर उनका रिएक्शन देखिए और जस्टिन राव ने वह वीडियो पोस्ट कर दिया था.

ये भी पढ़ें- पति विराट को चीयर करने पहुंचीं अनुष्का, यूजर्स ने ऐसे उड़ाया मजाक

एकता कपूर की कंपनी ‘‘बालाजी टेलीफिल्मसका आधिकारिक बयानः

बहरहाल, बुधवार सुबह साढ़े ग्यारह बजे ‘‘बालाजी टेलीफिल्मस’’ की तरफ से कुछ पत्रकारों के पास व्हाटअप्स पर आधिकारिक बयान आ गया. “7 जुलाई 2019 को फिल्म के गीत लांच इवेंट में हमारी फिल्म ‘जजमेंटल हैं क्या’ के अभिनेता और पत्रकार जस्टिन राव के बीच हुई बहस के बारे में बहुत कुछ बताया जा रहा है. दुर्भाग्य से इस घटना ने एक अप्रिय मोड़ ले लिया. जबकि इसमें शामिल लोगों ने निष्पक्ष रूप से अपने दृष्टिकोण रखे. लेकिन क्योंकि यह हमारी फिल्म के इवेंट पर हुआ था, इसलिए हम निर्माता के रूप में इस अप्रिय घटना के लिए क्षमा चाहते हैं और खेद व्यक्त करना चाहते हैं.

हम यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि हमारा इरादा किसी की भावनाओं का अपमान या चोट पहुंचाना नहीं था. हमारी फिल्म ‘जजमेंटल है क्या’26 जुलाई 2019 को रिलीज हो रही है और हम मीडिया से आग्रह करते हैं कि इस घटना को फिल्म बनाने के पीछे गई टीम के प्रयास से बाधा न बनने दें.”

क्या कंगना रानौट भारत में कौन्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल की परिपाटी शुरू करना चाहती हैं?

कंगना व रंगोली के रवैऐ से इस बात का अहसास हो रहा है कि वह अब भारत में भी ‘‘कौन्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’ की परिपाटी लागू करना चाहती हैं. ‘‘कौन्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल’’ में पत्रकार किसी की आलोचना नहीं कर सकता. किसी से भी प्रेस कौफ्रेंस में उसके खिलाफ सवाल नहीं कर सकता. ऐसा करने पर फिल्म फेस्टिवल के आयोजक उस पत्रकार का बौयकाट कर देते है. फिर पत्रकार किसी भी प्रेस कौफ्रेंस में या फिल्म के शो में घुस नहीं सकता.

एडिट बाय- निशा राय

Tags:
COMMENT