रेटिंगः साढ़े तीन स्टार

निर्माताः अनुभव सिन्हा और भूषण कुमार

निर्देशकः अनुभव सिन्हा

कलाकारः तापसी पन्नू, पावेल गुलाटी, रत्ना पाठक शाह,कुमुद मिश्रा, तनवी आजमी.

अवधिः दो घंटे 21 मिनट

‘‘बस एक थप्पड़ ही तो था.क्या करूं? हो गया ना..इससे ज्यादा जरूरी सवाल है यह है कि ऐसा हुआ क्यों? बस इसी ‘क्यों’ का जवाब तलाशती फिल्म‘‘थप्पड़’’लेकर आए हैं फिल्मकार अनुभव सिन्हा. पति द्वारा पत्नी को थप्पड़ मारना यानी कि घरेलू हिंसा.घरेलू हिंसा को लेकर कई फिल्में बन चुकी हैं.घरेलू हिंसा पर ही हिंसा प्रधान दृश्यों की भरमार वाली फिल्म ‘प्रोवोक्ड’में ऐश्वर्या राय बच्चन ने भी अभिनय किया था,मगर अनुभव सिन्हा की फिल्म में हिंसात्मक दृश्य नही है.यह फिल्म घरेलू ूहिंसा की बजाय पुरूष के उस अहम की चर्चा करती हैै,जिसके बारे मंे समाज में चर्चा नहीं होती.बिना भाषणबाजी के अनुभव सिन्हा ने कहानी का अंत पति पत्नी के बीच आपसी सहमति से तलाक के साथ किया है,जिसे सोच पाने की क्षमता अभी तक हमारे भारतीय पुरषसत्तात्मक समाज में तो बिल्कुल न के बराबर है.फिल्म में एक जगह अमृता की वकील नेत्रा का संवाद है-‘‘अगर एक थप्पड़ पर अलग होने की बात हो जाए,तो 50 परसेंट से ज्यादा औरतें मायके में हों.’’

Digital Plans
Print + Digital Plans

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT