कौमेडी वाली बिजनेस की फिल्मों के साथ-साथ गंभीर फिल्में करने वाले वरुण धवन इन दिनों इटरनल प्यार वाली सीरियस फिल्म ‘कलंक’ को लेकर चर्चा में हैं.17 अप्रैल को रिलीज होने वाली फिल्म ‘कलंक’ के निर्माता करण जौहर और निर्देशक अभिषेक वर्मन हैं. आइए जानते हैं उनसे इस फिल्म के बारे में उनका नजरिया…

फिल्म ‘‘कलंक’’ में किस कलंक की बात की गयी है?

-कलंक कई चीजों के बारे में होता है. कई बार आपके उपर कोई ऐसा धब्बा लगा होता है, जो समाज आप पर लगाता है. कलंक कभी प्यार व मोहब्बत के साथ जोड़ा जाता है कि प्यार करना कलंक है. पर प्यार या मोहब्बत जब होती है, तो फिर आपके ऊपर किसी का असर नहीं होता. फिर लोग चाहे, जो आरोप आप पर लगाएं. फिर चाहे आपको जितनी तौहीन मिले. पर उस वक्त प्यार ही आपकी सबसे बड़ी ताकत होती है.

यह भी पढ़ें- आखिर क्यों मल्टीस्टारर फिल्में पसंद करते हैं आदित्य रौय कपूर

 आप फिल्म कलंक को लेकर काफी उत्साहित हैं. यह वह किरदार है, जो कि शाहरुख खान के लिए लिखा गया था?

-आप काफी पुरानी बात कर रहे हैं. यह 15 साल से भी अधिक पुरानी बात है. तब इस फिल्म का निर्माण करण जौहर के पिता स्व. यश जौहर और निर्देशन करण जौहर करने वाले थे. तब फिल्म में सभी दूसरे कलाकार थे. पर कुछ वजहों से यह फिल्म नहीं बनी थी. अब करण जौहर इसे नए सिरे से लेकर आए हैं. इस बार इसका निर्देशन अभिषेक वर्मन ने किया है और फिल्म के सभी कलाकार अलग हैं.

फिल्म कलंक के अपने किरदार को लेकर क्या कहेंगे?

यह फिल्म 1940 के काल की है. मैने इसमें जफर का किरदार निभाया है, जो कि पेशे से लोहार है. लोहार आग के साथ काम करता है और जफर के अंदर ही बहुत बड़ी आग है. जफर के अंदर जो आग है, वह उसकी परवरिश की वजह से है.

यह भी पढ़ें- Video: जब कपिल के शो में वरुण धवन ने बांधे इस एक्टर के जूतों के फीते

वह हीरामंडी की सड़कों पर पैदा हुआ है और वह भी 1940 के काल में. यह आजादी से पहले का काल है, उस वक्त पूरा माहौल ही अलग था. कहानी व किरदारों के बर्ताव पर उस वक्त के माहौल का असर जरुर है. यह बहुत ही ज्यादा मर्दाना किरदार है. इससे पहले मैने कभी भी इतना मर्दाना किरदार निभाया नही. यह बहुत ही ज्यादा अग्रेसिव है.

 अब तक आपने जो किरदार निभाए, उनसे जफर कितना अलग है?

 -जफर भी एक लड़का ही है. मगर उसके हालात बहुत अलग हैं. वह जिस माहौल में पैदा और बड़ा हुआ, उसका उस पर असर है. देखिए,परवरिश व माहौल से इंसान की जिंदगी बदल जाती है. दुनिया को देखने का उसका नजरिया बदल जाता है. उसका एटीट्यूड अलग हो जाता है. फिर रूप जैसी लड़की जब जफर की जिंदगी में आती है, तो वह जफर की जिंदगी बदल देती है. रूप उसे बताती है कि जिंदगी में मोहब्बत भी हो सकती है.

जफर के किरदार को निभाना कितना आसान रहा?

-यह काफी जटिल व कठिन किरदार रहा. इसे निभाना शारीरिक और मानसिक रूप से काफी मुश्किल रहा.

आपके घर के अंदर सभी फिल्म से जुड़े लोग हैं. आपके पिता व भाई अच्छे निर्देशक हैं. क्या स्क्रिप्ट के चयन में उसे कोई मदद मिलती है?

-घर के अंदर मैं फिल्मों को लेकर बहुत ज्यादा बात नहीं करता. लेकिन डैड के साथ बहुत बातचीत होती है.

किसी भी किरदार को निभाने में लुक कितनी मदद करता है?

-आपने बहुत अच्छा सवाल पूछा. आंखों में सूरमा लगाने, शरीर में जगह-जगह दाग के निशान, लोहार जब काम करता है, तो आग के छीटें पड़ते रहते हैं, यह सब लगाकर जब मैं सेट पर पहुंचता था, तो मुझे अंदर से लगता था कि मैं लोहार हूं.

यह भी पढ़ें-शादी की खबरों पर मलाइका ने तोड़ी चुप्पी, कही ये बात

रणवीर सिंह, आयुष्मान खुराना, विक्की कौशल, राज कुमार राव जैसे अपने समकक्ष कलाकारों के बीच खुद को कहां पाते हैं?

-पहली बात तो मैं अपनी तुलना किसी से नहीं करता. मैं किसी भी प्रतिस्पर्धा का हिस्सा नही हूं. विक्की कौशल, आयुष्मान खुराना, राज कुमार राव जैसे कलाकारोंने तो उन निर्देशकों के साथ काम कर सफल फिल्में दीं, जिनके साथ कोई कलाकार काम नहीं करना चाहता था. यह सब इनके अपने हुनर की वजह से ही संभव हुआ. इन फिल्मों में मैं होता, तो शायद यह फिल्में इतनी सफल न होती.

यह भी पढ़ें- जलियांवाला बाग पर बनेगी फिल्म, 100वीं वर्षगांठ पर ऐलान

चर्चा हैं कि आप स्त्री के सीक्वअल में राजकुमार राव की जगह लेने जा रहे हैं?

-गलत खबर है. मेरे पास इस फिल्म का औफर नही आया है.

इसके बाद कौन सी फिल्में आने वाली हैं?

-रेमो डिसूजा की फिल्म ‘स्ट्रीट डांसर’ की है, जिसमें मेरे साथ श्रृद्धा कपूर हैं. अपने पिता के निर्देशन में ‘कुली नंबर वन’ कर रहा हूं, जो कि उनकी 1995 की इसी नाम की फिल्म का एडाप्टशन है. श्रीराम राघवन के साथ भी एक फिल्म करने वाला हूं.

आपने रेमो डिसूजा के साथ ए बी सी डी 2 की थी और स्ट्रीट डांसर तो उसी का सीक्वअल है, तो इस फिल्म की शूटिंग करना आपके लिए काफी सहज रहा होगा?

-जी नहीं!! शारीरिक रूप से यह काफी चुनौतीपूर्ण फिल्म रही. दो दिन के बाद तो मैं थक कर बैठ गया था और रेमो जी से पूछा कि आखिर हो क्या रहा है? आप यह कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि हम एक दिन में सात घंटे डांस कर सकते हैं? पर फिर मुझे अहसास हुआ कि इस फिल्म में उम्र में मुझसे छोटे कई बच्चे और प्रभु देवा सर भी हैं. तब मैने काफी मेहनत की. पहली बार मुझे इस फिल्म के माध्यम से कई नए डांस फौर्म के बारे में जानकारी मिली.

Edited by- Rosy

Tags:
COMMENT