जी हां आपको मेरा टाइटल देख कर लग रहा होगा की बुढ़ापे से बचने का उपाय मिल गया, पर मैं आपकी जानकारी के लिए ये बता दूं कि यदि इसी तरह प्रदूषण बढ़ता रहा तो शायद हम सच में कभी बूढ़े नही हो पाएंगे, क्योंकि जैसे- जैसे प्रदूषण बढ़ेगा हमारी उम्र अपने आप कम होती जाएगी.

प्रदूषण हमारे आने वाले कल के लिए एक बहुत ही चिंता का विषय है. यह हवा में घुल कर हमारे और हमारे बच्चों के लिए एक स्लो प्वाइजन की तरह काम कर रहा है.प्रदूषण से होने वाली बीमारियां जैसे अस्थमा, फेफड़ों का कैंसर और हार्ट अटैक का खतरा हमारे सिर पर मंडराता रहता है.

ग्लोबल बर्डेन ऑफ़ डिजीज (GBD) 2017 के विश्लेषण के अनुसार, हवा में जहरीले तत्व मिले होने के कारण भारत में हर 3 मिनट में एक बच्चे की मृत्यु हो जाती है.एक शोध के अनुसार विश्व के30 सबसे प्रदूषित शहरों में से 22 शहर भारत के हैं. वायु प्रदूषण के कारण वर्ष 2018 में लगभग 1.2 मिलियन भारतीयों की अकाल मृत्यु हुई थी.

क्या आपको पता है कि यूरोप मेंमार्निंग विजिबिलिटी 1000 m है और यही मॉर्निंग विज़िबिलिटी हमारी राजधानी दिल्ली में नवम्बर के महीने में10 m तक ही रह जाती है.

ये भी पढ़ें- नौकरी के पीछे युवा फौज

हमे लगता है कि प्रदूषण बढ्ने का मुख्य कारण केवल पराली है लेकिन शायद हम यह नही जानते कि हम हर वक़्त खतरे के निशान के ऊपर जी रहे है.हमारे शहर का PM2.5 लेवल हमेशा 200 से 300 के बीच रहता है जबकि W.H.O की गाईड लाइन के अनुसारPM2.5 लेवल 50 से नीचे रहना बहुत जरूरी है, पर क्या आप जानते है कि 8 नवंबर को PM2.5 लेवल 726 पार कर गया था. इस प्रदूषण में सांस लेना 1 दिन में 40 सिगरेट पीने के बराबर है. चलिए जानते है कि प्रदूषण कम करने के उपाय और उनसे होने वाले फायदे के बारे में:

सबसे पहले

1-कागज़ का उपयोग कम करें

कागज़ का उपयोग एकदम कम कर दीजिए क्योंकि कागज़ की डिमांड के कारण हर साल लगभग 700 करोड़ पेड़ काटे जाते है.अगर पेड़ कम कटेगें तो प्रदूषणभी काफी हद तक नियंत्रित होगा.कागज़ का उपयोग कम करने से हम डिजिटल होंगे,हमारा डाटा लंबे समय तक रिटेन रहेगा और हमारी कॉस्ट बचेगी.

2- खाने की बर्बादी न करे

हमें पुराने जमाने मे जो संस्कार मिलते थे वो खुद के लिए भी अच्छे थे और जमाने के लिए भी. शायद लोगो को नही पता कि खाने की बर्बादी भी एक प्रकार का प्रदूषण है.जो खाना हम बर्बाद करते है उनसे एक प्रकार की मीथेन गैसनिकलती है जो कि कार्बन डाई ऑक्साइड गैस से 25 गुना ज्यादा खतरनाक है.1 किलो खाना बर्बादकरनेसे 4 किलो मीथेन गैस निकलती है. एक सर्वे के अनुसार आम घरों में 20% खाना हर महीने बर्बाद होता है.कॉरपोरेट फंक्शन,पार्टीज या किसी भी इवेंट में 30% खाना बर्बाद होता है.यदि हम खाने की वेस्टेज को न्यूनतमकर दें तो हमारापैसा बचेगा और प्रदूषण भी कम होगा.

3पानी बचाये

हमारी धरती पर सिर्फ 1% पानी पीने लायक है बाकी का 99% पानी हम पीने में उपयोग नही कर सकते.पानी की कमी को पूरा करने के लिए हम जमीन से पानीखीचते है जिससे पानी का लेवल काफी नीचे जा रहा है. इसका असर हमारे पेड़ो पर हो रहा है.अगर पेड़ ख़त्म होंगे तो न ही शुद्ध हवा होगी और न ही पानी. इसलिए जितना हो सके पानी बचाइये.

4पब्लिकट्रांसपोर्ट प्लान करें

आजकल गाड़ियों की संख्या इंसानो से ज्यादा हो गयी है गाड़ियों की संख्या में बढ़ोत्तरी के कारण प्रदूषण का लेवल बढ़ता जा रहा है. जितना हो सके पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करें. अपनी गाड़ियों का समय समय पर प्रदूषण चेक कराएं. आप अपने सहकर्मियों के साथ कारपूल प्लान कर सकते हैं. इससे आपका सर्कल बढ़ेगा,पैसा भी बचेगा और प्रदूषण भी कम होगा.

ये भी पढ़ें- कूड़े के ढेर पर सफाई अभियान

5पेड़ लगाए

प्रदूषण को रोकने में सबसे बड़ा योगदान पेड़ लगाना है. अपने ऑफिस/घर के आस पास हर महीने एक एक्टिविटी रखें जिसमे यह सुनिश्चित करें कि हर व्यक्ति पेड़ लगाए. सामाजिक रूप से जिम्मेदार बनिये.प्रतिष्ठा एक नई मुद्रा है.

हमारे घर/औफिस के अंदर के प्रदूषण को नियंत्रित करने में कुछ पौधे मुख्य भूमिका निभाते है. आइये जानते है कुछ ऐसे पौधों के बारे में जिन्हें घर मे लगाने से इंडोर प्रदूषण से काफी हद तक निपटा जा सकता है. यह पौधे किसी भी नर्सरी में बहुत आसानी से हमें उचित रेट में मिल सकते हैं:

a)अलोवेरा

यह हवा में उपस्थित खराब तत्वों को नियंत्रित करने में मदद करता है और आसानी से कहीं भी लगाया जा सकता है.

b)मनीप्लांट

मनीप्लांट घर के अंदर या बाहर आसानी से लग जाता है. यह हवा को साफ करने में काफी मददगार है और हमारे घर के ऑक्सीजन की मात्रा को भी बढ़ा देता है.

c)पाम ट्री

इस पौधे को लिविंग रूम प्लांट भी कहते हैं. यह हवा में उपस्थित कार्बन मोनोऑक्साइड और कार्बन डाइऑक्साइड जैसी गैसों को दूर करता है और ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है. इस पौधे को घर के सभी दरवाजों के पास लगाएं.

d)तुलसी

यह पौधा हमारे घरों में आसानी से मिल जाता है. इस पौधे का हमारे वेदों में भी बहुत महत्व है. तुलसी की पत्तियों का रोज सुबहनियमित रूप से सेवन करने सेवायरल बुखार और अस्थमाजैसी बीमारियों से काफी हद तक छुटकारा मिल जाता है.

ये भी पढ़ें- हम से ज्यादा समझदार हैं जानवर

e)स्पाइडर प्लांट

यह पौधा वायुमंडल में उपस्थित बहुत से जहरीले केमिकल से हमारी रक्षा करता है. इस पौधे को लगाना बहुत ही आसान है. इसे ना ही ज्यादा पानी की जरूरत है और ना ही सनलाइट की.

f)करी पत्ता

करी पत्ता बैड कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है, जिससे कि दिल की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है.

आइये हम सब मिलकर अपनी आने वाली पीढ़ी को एक स्वच्छ वातावरण दे और प्रदूषण मुक्त भारत बनाये.

Tags:
COMMENT