हर व्यक्ति के जीवन की  3 महत्त्वपूर्ण आवश्यकताएं हैं- रोटी, कपड़ा और मकान. रोटी एक बार खराब बनी तो आप दूसरी बार ठीक बना लेंगे, मकान में एक बार मरम्मत हो तो सालोंसाल वह टिका रहता है, पर कपड़े तो हमें रोज पहनने होते हैं. हम बारबार उन कपड़ों को धोते और पहनते हैं. ये गंदे होते हैं, फट जाते हैं, रंग खराब हो जाते हैं. उफ! पता नहीं क्याक्या नहीं बीतती इन पर. हमारे व्यक्तित्व का सारा दारोमदार इन्हीं पर टिका होता है. जरा सोचिए, आप किसी इंटरव्यू के लिए जा रहे हैं. इंटरव्यू लेने वाला जब आप को देखेगा तो आप के कपड़ों पर लगे हलदी, सब्जी, मिट्टी, लिपस्टिक आदि के दाग उस पर क्या इंप्रेशन डालेंगे. ये वे दाग हैं, जो हर दूसरे दिन हमारे कपड़ों पर लगे होते हैं. और भी किस्मकिस्म के दाग हैं-चाय, कौफी, कोल्डड्रिंक, तेल, बटर, इंक, फल, ग्रीस, जूस, चौकलेट, कैचअप, खून, अंडे... अंतहीन लिस्ट है इन दागों की.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT