आर्यन दिल्ली के एक पब्लिक स्कूल में चौथी कक्षा में पढ़ता है. पढ़ाई में भी अच्छा है और व्यवहारकुशल भी है. हमेशा स्कूल खुशीखुशी जाता था. मगर अचानक स्कूल जाने से कतराने लगा. कभी सिरदर्द का बहाना बनाने लगा तो कभी बुखार होने का. 2 दिन से आर्यन फिर स्कूल नहीं जा रहा था. कारण था वह जब स्कूल में रेस प्रतियोगिता में फर्स्ट आने ही वाला था कि तभी उसी की क्लास के एक बच्चे ने टंगड़ी मार कर उसे गिरा दिया, जिस से उस के दोनों घुटने बुरी तरह छिल गए. आर्यन की मां रूपा कहती हैं कि पता नहीं स्कूल में बच्चे आर्यन को क्यों तंग करते हैं.

इसी तरह मोनिका कहती हैं कि उन्हें काफी समय तक पता ही नहीं चला कि उन की बेटी वंशिका स्कूल में टिफिन नहीं खा पाती है. उसी की क्लास का एक बच्चा उस का टिफिन चुपके से खा लेता. आर्यन और वंशिका की तरह और न जाने कितने बच्चे स्कूल में अपने साथी बच्चों द्वारा प्रताडि़त होते होंगे. कोलकाता में तो एक 9 वर्ष की बच्ची को उस की सीनियर्स ने बाथरूम में ही बंद कर दिया और वहीं उस की मृत्यु हो गई. ऐसी घटनाएं लगभग सभी स्कूलों में घटती हैं. कहींकहीं ये बोलचाल के जरीए या फिर हाथपैर चला कर शक्ति प्रदर्शन के रूप में भी देखने को मिलती हैं. रूपा और मोनिका की तरह हर बच्चे की मां की दिनचर्या बच्चे को समय से उठाने, तैयार करने, बैग, टिफिन, पानी की बोतल थमाने व स्कूल बस में चढ़ाने और फिर दोपहर को घर लाने तक ही सीमित होती है. पर क्या आप ने कभी इस बात पर ध्यान दिया कि खुशीखुशी स्कूल जाने वाला आप का बेटा या बेटी अचानक पेट दर्द, सिरदर्द आदि बहाना कर स्कूल जाने से कतराने लगी है. ऐसा है तो आप सतर्क हो जाएं. हो सकता है कि आप का बेटा या बेटी स्कूल में बुलिंग की शिकार हो रही हो यानी कोई बच्चा अपनी बात मनवाने या फिर वैसे ही मजा लेने के लिए बेवजह उसे तंग कर रहा हो. यानी वह बुली हो सकता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT