नवजात शिशु को, अर्पिता  की सासू माँ के हाथों में ,जब डॉक्टर ने सोंपा तो अर्पिता  ने तुरंत पूछा. इसे होम मेड कपड़े की लंगोट पहना सकते हैं या बाज़ार के डायपर्स ? डॉक्टर ने मुस्कुरा के जवाब दिया “अभी आप कपड़े की लंगोट पहनाइए और मुझे शाम को रिपोर्ट करें कि आपने कितनी लँगोट बदली. हमें बच्चे के यूरीन पास के समय अंतराल को चेक करना हैं ” डॉक्टर के जाते ही सास ने तुरंत बच्चे को लगोट पहना दी और गर्व से बहु की तरफ देखा.बहु भी मुस्कुरा उठी.बच्चे की डिलीवरी से पहले दोनों इस विषय पर चर्चा कर चुके थे कि कपड़े की लंगोट बेहतर हैं या बाज़ार के डायपर.हम भी आज इसी विषय में चर्चा करेगें.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT