स्वाति अहलूवालिया, (लखनऊ)

एक मां ने पैदा किया, चलना सिखाया, जीवन के लक्ष्य को निर्धारित किया तो दूसरी ने दिखाया उन्हें प्राप्त करने का हौसला. ज़िंदगी की चुनौतियों पे खरे उतरना..मां के घर से आकर एक नए घर में प्रवेश किया तो स्नेह, प्यार और सामंजस्य से स्वागत किय. मां है तो घर है मां कि बिना सब अधूरा.

घर में घुसते ही मां को सामने ना देख कर जो पहला वाक्य मुंह से निकलता है मम्मी कहां है.  चोट मुझे लगती थी पर दर्द मम्मी को. सुबह की चाय से ले कर रात के खाने तक मम्मी सब तैयारी करती थी. काम पर भी जाना हो तो भी सारे इंतेज़ाम कर के जाती थीं. दूसरी तरफ मेरी सासू मां, जिन्हें मम्मा कह कर पुकारती हूं.. एक दम मेरी मम्मी की ज़ीरौक्स कौपी हैं. वहीं प्यार और स्नेह. आलम तो यह है की लोग मुझे उन्हीं की बेटी समझते हैं. धन्य है ईश्वर का जो उन्होंने मुझे एक नही 2-2 मां दी.

हर रिश्ते में मिलावट देखी कच्चे रंगों की सजावट देखी, लेकिन सालो साल देखा है मां को,  उसके चेहरे पर न थकावट देखी, ना ममता में मिलावट देखी...

................................................................................................................

ये भी पढ़ें- मेरी मां: यादें मां की

mothers-day-17

डौ. रंजना वर्मा  'रैन', (गोरखपुर) 

मां, एक ऐसा शब्द जिसने हर सुख, हर दुख,  हर परेशानी को खुद में समेट रखा है. मां के साथ मेरा रिश्ता धूप में परछाईं के जैसा है. मेरे लिए मेरी मां खुशियों का खजाना है. उन्होंनें अशिक्षित होने के कारण शिक्षा के महत्त्व को समझा और एक शिक्षक बनकर देश समाज को शिक्षित करने की महत्वपूर्ण भूमिका को निभाने  के लिए मुझे प्रेरित किया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT