सवाल-

मेरी मां 66 साल की घरेलू महिला हैं. उन्हें सिर में कभी कोई चोट नहीं लगी और उन के साथ कभी कोई दुर्घटना भी नहीं हुई. लेकिन कुछ समय से उन्हें पार्किंसंस बीमारी के लक्षण महसूस हो रहे हैं. जैसे चलते समय कंपकंपाहट महसूस होना और लिखने में दिक्कत होना. क्या इस उम्र में बिना किसी शारीरिक चोट के पार्किंसंस बीमारी होना संभव है? क्या हमें न्यूरोलौजिस्ट से परामर्श लेना चाहिए या फिर ये सिर्फ कमजोरी के लक्षण हैं?

जवाब-

पार्किंसंस को बुजुर्गों की बीमारी ही कहा जाता है और यह बीमारी आमतौर पर 60 साल के बाद होती है. आप की मां को लिखने में दिक्कत और चलने में परेशानी हो रही है तो ये लक्षण पार्किंसंस बीमारी की हैं और यह जरूरी नहीं है कि सिर पर चोट लगने या दुर्घटना होने से ही पार्किंसंस बीमारी होने की संभावना रहती है. इसलिए समय रहते आप अपनी मां को न्यूरोलौजिस्ट को दिखाएं.

ये भी पढें- मै भाभी के भाई को पसंद करती हूं?

Tags:
COMMENT