85 वर्षीय वर्मा जी को अचानक बुखार और थकान सी महसूस हुई तो उन्होंने पेरासिटामोल ले ली परन्तु दो तीन दिन तक जब बुखार बार बार आने लगा साथ ही खांसी भी प्रारम्भ हो गयी तो परिवार के सदस्यों को चिंता हुई पर किसे दिखाएं, कौन अच्छा डॉक्टर है, किसका इलाज अच्छा है जैसे प्रश्नों में ही पूरा दिन निकल गया तब तक वर्मा जी की स्थिति और बिगड़ गयी. आनन फानन में अस्पताल ले जाया गया जहां बड़ी मुश्किल से उनकी जान बचाई जा सकी. डॉक्टरों के अनुसार 60% फेफड़े संक्रमित हो चुके थे वहीं जैन साहेब को जैसे ही हल्की खांसी और मामूली सा बुखार हुआ उन्होंने तुरंत फोन पर अपने फैमिली डॉक्टर को बताया तो उन्होंने ट्रीटमेंट प्रारम्भ करने के साथसाथ टेस्ट करवाने की सलाह दी. इस तरह रिपोर्ट आने से पूर्व शुरुआती दौर में ही इलाज मिल जाने से जैन साहेब एक सप्ताह में ही ठीक हो गए. कोरोना की इस दूसरी लहर में ऐसे अनेकों केस सामने आए जहां प्रारंभिक डॉक्टरी सलाह के अभाव में रोग ने गम्भीर रूप ले लिया. यद्यपि फैमिली डॉक्टर की भूमिका तो सदा से ही महत्वपूर्ण रही है परन्तु कोरोना से पूर्व सम्बंधित डॉक्टर या हॉस्पिटल जाने का विकल्प मरीज के पास होता था परन्तु आज समय समय पर होने वाले लॉक डाउन और कोरोना के अनपेक्षित संक्रमण के डर के कारण वह विकल्प नदारद है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT