वस्तुतः हमेशा इस बात का हल्ला मचता रहता है कि हमारे समाज के विकास के लिए लैंगिक समानता बहुत जरूरी है. मन जाता है कि स्त्रीपुरुष के बीच में भेदभाव की सोचसमझ कर एक खाई बनाई गई है. स्त्रियों को सामान अधिकार और पोजीशन नहीं मिलता जिस की वे हकदार हैं. वर्ल्ड इकनोमिक फोरम द्वारा 2017 के ग्लोबल जेंडर गैप इंडेक्स की बात करें तो भारत 144 देशों की सूची में 108 नंबर पर आता  हैं. देखा जाए तो स्त्रीपुरुष समानता की हम भले ही कितनी भी बातें कर लें मगर इस सच से इंकार नहीं कर सकते कि ऐसे कई तथ्य हैं, बातें हैं जो स्त्रियों को कमजोर बनाती हैं या फिर जिन की वजह से वे औफिस को कम समय दे पाती हैं और उन के ओवरआल परफॉरमेंस पर असर पड़ता है.  प्रकृति द्वारा किये गए इस भेदभाव को हम चाह कर भी नकार नहीं सकते. जिन महिलाओं ने इन्हे नकारा वे आगे बढ़ीं. उन्हें बढ़ने से रोका नहीं गया. मगर उन्हें अपवाद ही कहा जा सकता है. सामान्य जीवन में स्त्रियों को आगे बढ़ने में काफी अड़चनों का सामना करना पड़ता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT