कुछ दिन पहले अचानक बाजार में तुलारामजी से भेंट हो गई तो वे बोले, ‘‘आप का भाग्य बहुत अच्छा है, तभी तो आप यहां मिल गईं. लीजिए, गोवर्धन का प्रसाद. सच मानिए, जिस ने भी यह प्रसाद पाया है उस के कष्ट दूर हुए हैं, इच्छा पूर्ण हुई है. एक बार आप गोवर्धन जा कर देखिए, उस स्थान की महिमा देखिए,’’ कहते हुए उन्होंने मेरे हाथ में प्रसाद के रूप में पेड़ा और मिस्री दे दी.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT