फुटबौल प्लेयर व लेखिका-सोना चौधरी

अपनी जिद और जनून के दम पर सोना चौधरी ने न केवल फुटबौल को अपनाया, बल्कि अपने शानदार खेल की बदौलत वे भारतीय महिला फुटबौल टीम की कप्तान भी बनीं. लेकिन हरियाणा के एक छोटे से गांव के एक किसान परिवार की इस लाडली के लिए फुटबौल अपनाना किसी जादुई चिराग को ढूंढ़ने से कम मुश्किल नहीं था. 80 के उस दौर में इन के इलाके में महिलाओं के खेलने के लिए कोई अलग से मैदान ही नहीं होता था. मगर सांसों में तो फुटबौल बसी थी, इसलिए सोना चौधरी ने हार नहीं मानी और अपनी मेहनत और लगन के दम पर पहले वे हरियाणा (1992-96) और बाद में भारत (1996-98) महिला फुटबौल टीम की कप्तान बनीं. उन की कप्तानी में भारतीय महिला फुटबौल टीम ने नेपाल और बंगलादेश में भी जा कर मैच खेले थे.

मुश्किल राह और उपलब्धियां

एक महिला खिलाड़ी को खेल और समाज से जुड़ी किनकिन मुश्किलों का समाना करना पड़ता है? इस सवाल पर सोना चौधरी ने बताया, ‘‘मैं ने इस खेल को इसलिए अपनाया था, क्योंकि मुझे इस का पैशन था. मेरी जिद और मेरे जनून ने मुझे फुटबौल का खिलाड़ी बनाया. किसी ने कहा था कि तुम लड़की हो, इसलिए फुटबौल नहीं खेल सकती. यह बात जैसे मुझे चुभ गई और मैं यह लंबा कदम उठा गई. इस के बाद मैं वहां तक चली गई जहां तक मैं ने सोचा भी नहीं था. उस समय तो इंडिया से खेलना ही ओलिंपिक खेलने जैसा था.

ये भी पढ़ें- औरतों के हक पर हमला  

‘‘इस खेल से मुझे लोगों का जो स्नेह मिला वही मेरी सब से बड़ी उपलब्धि है. हम जहां भी खेलते थे लोग हमें ढेर सारा सम्मान देते थे. उन पलों को मैं आज भी जीती हूं और रोमांच से भर जाती हूं.’’

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

गृहशोभा डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...