सुबह 10 बजे के करीब मीना बूआ अचानक घर आईं और मुझे देखते ही जोशीले लहजे में बोलीं, ‘‘शिखा, फटाफट तैयार हो जा. तू और मैं बाहर घूमने चल रहे हैं.’’

‘‘कहां?’’ मैं ने फौरन खुश हो कर पूछा.

‘‘घर से निकलने के बाद मालूम हो जाएगा. तू जल्दी से तैयार तो हो जा.’’

‘‘क्या मोहित को भी साथ ले चलूं?’’

मैं ने अपने 3 वर्षीय बेटे के बारे में पूछा.

‘‘अरी, उसे उस की नानी संभाल लेंगी.’’

मैं ने सवालिया नजरों से मां की तरफ देखा.

मोहित को रखने के लिए ‘हां’ कहते हुए मां कई दिनों के बाद मेरी तरफ देख कर मुसकराईं.

मीना बूआ के साथ मेरी हमेशा से बहुत अच्छी पटती रही है. स्मार्ट, सुंदर और समझदार होने के साथसाथ उन का स्वभाव भी मस्ती भरा है. फूफाजी को जब से दिल की बीमारी ने पकड़ा है, वे ही उन का बिजनैस सलीके से संभाल रही हैं.

‘‘बूआ, आज फैक्टरी जाना कैसे टाल दिया?’’ घर से बाहर निकलते ही मैं ने पूछा.

‘‘मैं ने सोचा 2-4 दिनों में तू ससुराल लौट जाएगी, तो तेरे साथ घूमने का मौका कहां मिलेगा. तेरे फूफाजी की बीमारी के कारण कभीकभी उदास हो जाती हूं. सोचा, आज तेरे साथ घूमफिर कर गपशप करूंगी, तो मन बहल जाएगा.’’

सचमुच बूआ ने 2 घंटे तक मुझे खूब ऐश कराई. हम ने एक अच्छे रेस्तरां में खायापिया और शौपिंग की.

ये भी पढ़ें- गुरुदक्षिणा: निधि को ऐसा क्या दिया दीपा ने?

मैं सोच रही थी कि अब हम घर लौटेंगे, पर बूआ ने एक बहुमंजिला इमारत के सामने गाड़ी रोकी. मेरे कुछ पूछने से पहले ही बूआ झेंपे से अंदाज में मुसकराते हुए बोलीं, ‘‘हम दोनों एक पुराने जानकार से मिलने चल रहे हैं. इस व्यक्ति से आज मैं करीब 15 साल बाद मिलूंगी.’’

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT