ओंकार पुरानी फिल्मों व गाने के बहुत शौकीन थे. इधर सविता भी बहुत अच्छा गाती थी लेकिन वक्त के बहाव ने इस शौक को धूमिल कर दिया था. लेकिन अब ओंकार की संगत में उसे अपने पुराने दिनों की याद हो आई और एक दिन बातों ही बातों में इस का पता चलते ही ओंकार उस से गाने का हठ कर बैठे.

"दिल की गिरह खोल दो चुप न बैठो कोई गीत गाओ... "सविता द्वारा यह गीत छेड़ते ही मानो फिजां में एक रुमानियत सी घुल गई.

"हम तुम न हम तुम रहे अब कुछ और ही हो गए...सपनों के झिलमिल जहां में जाने कहां खो गए अब..." तन्मय हो कर गाने की अगली कड़ी को गाते हुए ओंकार जैसे कहीं खो से गए.

दोनों ने नज्म की रूह को महसूस करते हुए गाने को पूरा किया.

"वाह दीदी, आप तो बड़ी छुपी रूस्तम निकलीं. पिछले 2 सालों से मुझे अपनी इस कला की भनक भी न लगने दी और साहब आप की प्रतिभा को भी मानना पड़ेगा."

गाना सुन कर पार्वती ने सविता से झूठमूठ की नाराजगी जताई.

"वाकई मैं तो आप की सुमधुर आवाज में खो कर रह गया."

"वह तो ऐसे ही..." कहते हुए सविता की आंखे ओंकार से जा मिलीं और उस के चेहरे पर उभर आई हया की हलकी लालिमा पार्वती की अनुभवी निगाहों से न छिप न सकी.

ये भी पढ़ें- Short Story: टीचर- क्या था रवि और सीमा का नायाब तरीका?

लौकडाउन की बोरियत छंटने लगी थी. कभी सविता तो कभी ओंकार के घर गपशप के साथ चाय के दौर पर दौर चलते. किसी दिन चेस की बाजी लगती तो कभी तीनों मिल कर देर रात तक लूडो खेला करते. कभी दोनों के युगल गीतों से शाम रंगीन हो उठती और खूबसूरत समां सा बंध जाता.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT