आजकल के खराब खानपान और जीवनशैली का नतीजा है कि लोगों को बहुत सी परेशानियां उम्र से पहले होने लगी हैं. इनमें बाल का सफेद होना भी कुछ मुख्य समस्याओं में से एक है. कम उम्र में बाल सफेद होने को लेकर आम तौर पर लोगों की धारणा है कि ये परेशानी जेनेटिक है. पर ये पूरा सच नहीं है. समय से पहले बाल सफेद होने के और भी कई कारण होते हैं. इस खबर में हम आपको उन कारणों के बारे में बताएंगे.

तो आइए शुरू करते हैं.

धूम्रपान

धूम्रपान का सेवन करने वालों के बाल कम उम्र में सफेद हो जाते हैं. साल 2013 में प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, जो लोग धूम्रपान करते हैं, उनके बाल जल्दी सफेद होने की संभावना दूसरे लोगों के मुकाबले 25 फीसदी ज्यादा होती है. इसके अलावा भी धूम्रपान की आदत सेहत को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाती है.

ये भी पढ़ें : कहीं बांझपन का कारण न बन जाए मोबाइल

हार्मोन्स

शरीर में हार्मोन्स का स्तर बिगड़ने से भी बाल जल्दी सफेद होते हैं. हार्मोन्स के असंतुलित होने पर बाल रूखे सूखे हो जाते हैं, उनकी चमक खो जाती है.

ये भी पढ़ें : आपको भी आती है काम के बीच नींद तो पढ़ें ये खबर

तनाव

सही उम्र से पहले बालों के सफेद होने का एक प्रमुख कारण तनाव भी है. अधिक तनाव लेने से आपके बाल अपना नेचुरल कलर खो देते हैं. बालों की अच्छी सेहत चाहते हैं तो तनाव से दूर रहें.

ये भी पढ़ें : वरुण धवन से जानिए उनके 6 फिटनेस सीक्रेट्स

प्रदूषण

आज के समय में बहुत सी परेशानियां गिर रहे वायु के स्तर की वजह से हो रही हैं. प्रदूषित हवा में मौजूद तत्व बालों को डैमेज करते हैं और उन्हें सफेद करते हैं. जानकारों की माने तो प्रदूषित हवा में मौजूद फ्री रेडिकल्स मेलानिन को डैमेज कर के बालों को सफेद करने का काम करते हैं.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT