प्रकाश सेखानी

ग्रुप चेयरमैन, सेखानी ग्रुप

भारतीय सैनिटरी नैपकिन के निर्माता होने के नाते हम भारतीय मौसम के कारण पीरियड्स में होने वाली परेशानी को जानते हैं और हमारे उत्पाद इस दौरान होने वाली समस्याओं में महिला को आराम देने के लिए बनाए गए हैं. हम भारत में बेहतर मैंस्ट्रुअल प्रैक्टिसिस के पक्षधर हैं और पर्सनल हाइजीन में सकारात्मक बदलाव लाना चाहते हैं…

भारत में आज भी अधिकांश महिलाएं माहवारी के दौरान पर्सनल हाइजीन से जुड़ी कुछ महत्त्वपूर्ण बातों से अनजान हैं. कई जगहों पर तो महिलाएं पीरियड्स  के दौरान कपड़ा इस्तेमाल करती हैं, जिस से उन के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है. इतना ही नहीं वे बारबार उसी कपड़े को इस्तेमाल करने से भी गुरेज नहीं करतीं. उन्हें इस बात का अंदाजा तक नहीं होता कि ऐसा करना उन्हें कैंसर जैसी जानलेवा बिमारी का भी शिकार बना सकता है. पर्सनल हाइजीन और सैनिटरी नैपकिन के प्रति जागरूकता की कमी इस की बड़ी वजह है. ऐसे में सेखानी ग्रुप के चेयरमैन प्रकाश सेखानी की पहल इस दिशा में काफी महत्त्वपूर्ण कदम है. आइए जानते हैं उन से हुए कुछ सवालजवाब:

सैनिटरी नैपकिन के व्यवसाय में आने की प्रेरणा कैसे मिली?

कुछ समय पहले नीलसन के एक अध्ययन में काफी चौकाने वाली बात सामने आई थी कि सिर्फ 12% भारतीय महिलाएं ही सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं, जबकि 23% किशोरियां माहवारी शुरु होते ही स्कूल जाना छोड़ देती हैं. दुनियाभर में सर्वाइकल कैंसर से होने वाली मौतों में 27% मौत सिर्फ भारत में होती हैं. भारत में अधिकांश ग्रामीण महिलाएं पीरियड्स के दौरान कपड़े का ही इस्तेमाल करती हैं, जो उन के प्रजनन तंत्र में संक्रमण का कारण बनता है, क्योंकि उन के लिए उपयोग किए गए कपड़े को साफ और बैक्टीरिया मुक्त रखना काफी मुश्किल होता है. ऐसे में पर्सनल हाइजीन और सही सैनिटेशन की कमी सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक बड़ी चुनौती है. भारतीय महिलाओं के लिए मासिकधर्म एक सामान्य शारीरिक क्रिया से बढ़ कर उन के प्रति लिंगभेद को दर्शाने का एक और तरीका मात्र है. पीरियड्स से जुड़े अंधविश्वास और वर्जनाएं महिलाओं के स्वास्थ्य के हित में सही नहीं हैं.

ये भी पढ़ें- पर्यावरण को हानि पहुंचाने का हक नहीं

फेम केयर (wonderize) व्यवसाय को शुरू करने के पीछे मुख्य उद्देश्य अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पादों का निर्माण करने के साथसाथ महिलाओं व लड़कियों को हाइजीन व कंफर्ट संबंधी सभी सुविधाएं भी प्रदान कर हाइजीन सैक्टर के विकास में योगदान देना है. इस के अलावा महिलाओं को मानसम्मान के साथ जीने की आजादी देने वाले उत्पादों को पेश कर उन की जिंदगी में सकारात्मक बदलाव लाना भी हमारा मुख्य उद्देश्य है.

wonderize के बेहतरीन क्वालिटी वाले उत्पाद किफायती दामों पर बाजार में उपलब्ध हैं ताकि महिलाएं उन दिनों में पर्सनल हाइजीन की चिंता छोड़ कर नारीत्व का खुल कर आनंद उठा सकें.

इस व्यवसाय के जरीए आपका लक्ष्य क्या है?

हमारा लक्ष्य स्वस्थ महिलाएं- स्वस्थ भारत के निर्माण का है. हम माहवारी के दौरान होने वाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को जड़ से मिटाना चाहते हैं. हम भारत में बेहतर मैंस्ट्रुअल प्रैक्टिसिस के पक्षधर हैं और पर्सनल हाइजीन संबंधी बेहतर प्रोडक्ट्स बाजार में पेश कर हाइजीन श्रेणी में सकारात्मक बदलाव लाना चाहते हैं ताकि महिलाओं को भी खुल कर जीने की आजादी मिल सके. हम चाहते हैं कि हर भारतीय महिला को सैनिटरी नैपकिन उपलब्ध हो व साथ ही वह मासिकधर्म के दौरान अपनी सेहत के प्रति जागरूक भी रहे.

आप के उत्पादों की रेंज क्या है और आप ने इस व्यवसाय की प्रतिस्पर्धा से खुद को अलग कैसे रखा है?

हमारा फेम केयर ब्रैंड- wonderize सैनिटरी नैपकिंस और पैंटी लाइनर्स जैसे उत्पादों के साथ बाजार में मौजूद है, जबकि बेबी केयर के क्षेत्र में बेबी पैंट्स और बेबी वाइप्स जैसे Doobidoo के उत्पाद बाजार में उपलब्ध हैं. हमारे उत्पाद wonderize सैनिटरी नैपकिन की भी विस्तृत रेंज है, जैसे कि फ्लफ व अल्ट्रा. ये उत्पाद रैग्युलर से ले कर डबल एक्सएल साइज में उपलब्ध हैं.

हमारे सैनिटरी पैड्स उत्पाद कुछ खास विशेषताओं के चलते प्रतियोगी उत्पादों से अलग हैं. हम अपने ग्राहकों के लिए वर्ल्ड क्लास टैक्नोलौजी का इस्तेमाल कर के बेहतरीन गुणवत्ता वाले उत्पाद तैयार करते हैं.

मासिकधर्म के दौरान महिलाएं विभिन्न समस्याओं जैसे त्वचा पर रैशेज हो जाना और खुजली इत्यादि की समस्याओं से दोचार होती हैं. भारतीय सैनिटरी नैपकिन के निर्माता होने के नाते हम भारतीय मौसम के कारण पीरियड्स में होने वाली परेशानी को जानते हैं और हमारे उत्पाद इस दौरान होने वाली समस्याओं में महिला को आराम देने के लिए बनाए गए हैं. गरमी और उमस के मौसम में हमारे सैनिटरी पैड्स महिलाओं को लंबे समय तक आराम देने के साथसाथ रैशेज इत्यादि की समस्या से भी सुरक्षित रखते हैं.

मासिकधर्म से जुड़ी वर्जनाओं के बारे में आप का क्या मानना है?

अभी भी हमारे देश में मासिकधर्म को शर्म का विषय व टैबू ही माना जाता है और बहुत से लोग तो इस विषय पर बात भी करना पसंद नहीं करते. लोग इसे सामान्य शारीरिक क्रिया के रूप में नहीं देखते. इन दिनों बहुत सी महिलाओं व लड़कियों पर कई तरह की पाबंदियां भी लगा दी जाती हैं. प्राचीन समय में महिलाओं के पास सैनिटरी नैपकिंस व उचित स्वच्छता की कोई सुविधा नहीं थी, जिस के कारण उन्हें पूरी तरह से आराम करने को कहा जाता था. हालांकि आज के युग में मासिकधर्म के दौरान हाइजीन बनाए रखने के लिए जरूरी सुविधाएं उपलब्ध हैं मगर फिर भी इस से जुड़ी कुप्रथा को खत्म नहीं किया जा सका, जिस के चलते यह एक टैबू का रूप ले चुकी है.

ये भी पढ़ें- कोख पर कानूनी पहरा क्यों?

भारत में खराब मैंस्ट्रुअल हैल्थ के बारे में आप क्या सोचते हैं?

हर तीन में से एक लड़की को पीरियड्स के दौरान सही स्वच्छता नहीं मिल पाती जबकि अन्य को इस दौरान सामाजिक व सांस्कृतिक पाबंदियों का सामना करना पड़ रहा है. मासिकधर्म के दौरान उन के लिए हाइजीन का बहुत महत्त्व है. एक तरह से यह सही सैनिटेशन की सुविधाओं की उपलब्धता और उन के प्रति जागरूकता का अभाव ही है. ग्रामीण भारत में सैनिटरी नैपकिन को एक जरूरत के बजाए महंगी सुविधा का उत्पाद माना जाता है. जागरूकता का अभाव और सामाजिक मान्यताएं मासिकधर्म को इसी रूप में प्रस्तुत करती हैं. इन के चलते महिलाएं माहवारी के दौरान परंपरागत तरीकों का इस्तेमाल करती हैं जो कि उन की सेहत के लिए बड़ा खतरा साबित होते हैं.

इस व्यवसाय की शुरुआत करने में किन परेशानियों का सामना करना पड़ा?

हमारे सामने जो सब से बड़ी दिक्कत थी वह थी महिलाओं में जागरूकता की कमी. इस वजह से सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल भी कम था और इस के बाजार में संभावनाएं भी सीमित थीं. अब स्थितियां बदल रही हैं और धीरेधीरे महिलाओं में जागरूकता बढ़ने के कारण वे मासिकधर्म के दौरान पर्सनल हाइजीन का ध्यान रखने लगी हैं.

भारतीय सैनिटरी नैपकिन बाजार की आज क्या स्थिति है और आने वाले समय में आप इसे कहां देखते हैं?

महिलाओं की हाइजीन और हैल्थ के लिए सैनिटरी नैपकिन बेहद महत्त्वपूर्ण है. हमारे सैनिटरी नैपकिन अलगअलग प्रकार व साइज में उपलब्ध है. हाल के वर्षों में भारत में सैनिटरी नैपकिंस ने अपनी उपयोगिता के प्रति खासा ध्यान आकर्षित किया है, क्योंकि सरकार व कई एनजीओ महिलाओं को व्यक्तिगत स्वच्छता के महत्त्व को समझाने के लिए विभिन्न पहल व प्रयोगशालाएं कर रहे हैं. महिलाओं में व्यक्तिगत स्वच्छता को ले कर बढ़ती जागरूकता भारतीय सैनिटरी नैपकिन बाजार को आने वाले समय में फायदा पहुंचाएगी. इस के अतिरिक्त बढ़ती आय और किफायती कीमत पर सैनिटरी नैपकिंस की उपलब्धता भी इस के बाजार को बढ़ाने का एक अहम कारक है.

Doobidoo के बेबी केयर उत्पाद अन्य बेबी केयर उत्पादों से किस तरह अलग हैं?

Doobidoo उत्पादों को सर्वश्रेष्ठ तकनीक का उपयोग कर के निर्मित किया गया है, जिस से शिशु को पूरा आराम मिल सके. इस की खास विशेषताएं शिशु की नाजुक त्वचा की देखभाल के साथसाथ पूरा आराम भी सुनिश्चित करती हैं. Doobidoo उत्पाद डर्मैटोलौजिकली टैस्ट करने के बाद बाजार में पेश किए जाते हैं. हमारी बेबी पैंट्स बबल सौफ्ट टैक्नोलौजी व ऐंटी लीकेज सिस्टम से लैस हैं जिससे शिशु की कोमल त्वचा पर रैशेज भी नहीं होते और वह दिनरात आराम भी महसूस करता है. इन खास फीचर्स के कारण ही Doobidoo उत्पाद सब से बेहतरीन बेबी केयर उत्पाद हैं.

ये भी पढ़ें- दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी, जानिए कब और क्यों की जाती है घोषणा ?

Tags:
COMMENT