घर और मौडलिंग में तालमेल

‘मिस और मिसेज उत्तर प्रदेश’ का आयोजन कमला फिल्म के द्वारा किया गया. लखनऊ की साक्षी सक्सेना विजेता रही. साक्षी जौब के साथ मौडलिंग भी करती हैं. साक्षी घर और नौकरी के बीच तालमेल बैठाने के साथसाथ अपने सपने को पूरा करने के लिए जीजान से मेहनत कर रही हैं. मिसेज उत्तर प्रदेश 2019 में प्रथम रनरअप रिचा और द्वितीय रनरअप नुपूर चुनी गईं.

 घर और मौडलिंग में तालमेल

‘मिस और मिसेज उत्तर प्रदेश’ का आयोजन कमला फिल्म के द्वारा किया गया. लखनऊ की साक्षी सक्सेना विजेता रही. साक्षी जौब के साथ मौडलिंग भी करती हैं. साक्षी घर और नौकरी के बीच तालमेल बैठाने के साथसाथ अपने सपने को पूरा करने के लिए जीजान से मेहनत कर रही हैं. मिसेज उत्तर प्रदेश 2019 में प्रथम रनरअप रिचा और द्वितीय रनरअप नुपूर चुनी गईं.

ये भी पढ़ें- आप हम और ब्रैंड

मंच तक पहुंचा डांस

घरेलू महिलाओं को डांस का बड़ा शौक होता है. अब वह इस का प्रदर्शन मंचों पर भी करना चाहती हैं. ऐसे में अलगअलग तरह के आयोजन होने लगे है. अनुभूति क्लब लखनऊ में तीज के अवसर पर महिलाओं ने डांस और मस्ती की. आयोजक स्नेहलता सिंह ने बताया कि महिलाएं डांस सीख कर उस का प्रदर्शन मंच पर करती हैं. इस से उन में आत्मविश्वास आता है.

फैशन शो से दिया बेटी बचाओ का संदेश

प्लेनेट रूप से फैशन शो के जरीये ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का संदेश देने के लिए मिस और मिसेज की प्रतियोगिता का आयोजन किया- स्मृति सिंह, उर्मी साल्वे, अलका श्रीवास्तव, गुलशन बानो और विक्रम राव के जजमैंट पैनल के द्वारा मनी श्रीवास्तव, प्रतिक्षा मिश्रा और शालिनी गुप्ता को विजेता बनाया गया.

लड़के भी होते हैं मेकअप आर्टिस्ट

मेकअप आर्टिस्ट के रूप में आमतौर पर लड़कियां ही सब से आगे दिखती है. अब कई लड़के भी इस क्षेत्र में अच्छा काम कर रहे है. मेकअप आर्टिस्ट अजय रस्तोगी भी ऐसे ही लोगों में से एक हैं. अजय कहते हैं कि बचपन से ही मुझे मेकअप आर्टिस्ट बनने का शौक था. ऐसे में मैं ने अलगअलग सैलून में नौकरी कर के काम सीखा और अब पर्सनल मेकअप कर रहा हूं. अच्छा लगता है जब लोग मेरे काम की तरीफ करते हैं.

 गरबा की धूम

गुजरात का गरबा अब पूरे देश में धूम मचा रहा है. ‘स्कूल औफ डांस ऐंड म्यूजिक’ की तरफ से गरबा का आयोजन किया गया. आयोजक दिव्या शुक्ला ने बताया कि इस में डांस करने वालों को उपहार भी दिए गए. विजेताओं को चुनते समय कविता शुक्ला, हरप्रीत कौर मौजद रहीं. डांडिया गर्ल ज्योति ओजस्विता बनीं.

ये भी पढ़ें- पर्यावरण को हानि पहुंचाने का हक नहीं

मसल्स बनाने से नहीं डरतीं महिलाएं

एक दौर था जब महिलाएं मसल्स के बन जाने से घबराती थीं. अब ऐसा नहीं है. फिटनैस के लिए जिम और जुंबा जैसे बहुत सारी ऐक्सरसाइज वे करने लगी हैं. जुंबा क्लासेज चलाने वाली सुप्रीती बाली कहती हैं कि जुंबा ऐक्सरसाइज के साथ ही डांस का भी तरीका है. महिलाओं को अब जिम जाने और मसल्स के बन जाने से कोई खतरा नहीं रह गया है. वह न केवल इन को बनाती है बल्कि उस को दिखाने से भी कोई परहेज नहीं करती है.

Tags:
COMMENT