भाई-बहन के प्यार के प्रतीक के रूप में मनाया जाने वाला त्योहार है रक्षाबंधन. एक ऐसा दिन जब भाई-बहन अपने सारे तकरार भूल प्यार के रंग में रंग जाते हैं. यही वह दिन है जिसका एक बहन को बेसब्री से इंतजार होता है. 2 दिन बाद ही है ये भाई-बहन का पावन त्योहार, रक्षाबंधन.

त्योहार हमारे समाज और संस्कृति का अभिन्न हिस्सा है और फिल्म हमारे समाज का आइना. इस आइने में हमें वह सब नजर आता है जो हमारे समाज में हमारे इर्द-गिर्द होता है. समाज को फिल्मों में दर्शाना उतना ही पुराना है जितना की बौलीवुड और फिल्म का इतिहास. शुरुआत से ही फिल्मों में प्यार-मोहब्बत, होली-दिवाली से लेकर हर तीज त्योहार को रूपहले पर्दे पर दिखाया गया है.

ऐसे में भाई-बहन के प्यर को फिल्मों में कैसे नहीं दिखाया जाता. बौलीवुड में ऐसे कई सदाबहार गाने हैं जो हर साल रक्षाबंधन के अवसर पर बहनों की जुबान पर आ ही जाते हैं. तो आइए इस रक्षाबंधन सुनते हैं बौलीवुड के कुछ ऐसे ही गानों को.

भईया मेरे राखी के बंधन को निभाना..

रक्षाबंधन के सदाबहार गानों में ये गाना सबसे टाप पर है. फिल्म ‘छोटी बहन’ (1959) के इस गाने को सुनकर छोटी बहन और बड़े भैया के बीच का मिठास से भरा प्यारा रिश्ता हर कोई महसूस कर सकता है. यह गाना नंदा, बलराज साहनी और रहमान पर फिल्माया गया था. शंकर-जय किशन के कंपोज किए इस गाने को लता मंगेशकर ने गाया था.

ये भी पढ़ें- दीपिका ने सास-ससुर और पति के साथ ऐसे मनाई ईद, सामने आईं PHOTOS

फूलों का तारों का..

‘हरे रामा, हरे कृष्णा’ फिल्म का यह प्यारा गाना किसे याद नहीं होगा. बहन को सबसे खास बताने वाले भाव से भरे इस गाने को सुनने के बाद, हर भाई को अपनी प्यारी बहन पर प्यार आ जाता है. आज भी यह गाना भाईयों और बहनों की पहली पसंद बना हुआ है. इस गाने को लता मंगेशकर और सुरों के सरताज किशोर कुमार ने अपनी आवाज दी है.

बहना ने भाई की कलाई से प्यार बांधा है..

सच ही तो है, बहन के प्रेम के बगैर तो राखी को कोई मोल ही नहीं. बहन राखी की डोर के रूप में भैया की कलाई पर अपना ढेर सार प्यार और शुभकामनाएं ही तो बांधती है. आज भी हर रक्षाबंधन ‘रेशम की डोरी’ फिल्म का यह गाना जरूर याद किया जाता है. धर्मेंद्र और सायरा बानो पर फिल्माए इस गीत को सुमन कल्याणपुर ने गाया है.

मेरे भईया, मेरे चंदा, मेरे अनमोल रतन..

भाई के प्रति बहन का प्यार, दुलार से भरा यह गाना सुनते ही मन में रक्षाबंधन के त्योहार की खुशी दौर जाती है.  ‘काजल’ फिल्म का यह गाना भाई-बहन के प्यार का मिसाल बन गया. मीना कुमारी पर इस गीत का फिल्मांकन किया गया था. आशा भोंसले ने इसे स्वर दिया है.

हम बहनों के लिए मेरे भैया..

पराई होती बहन की मासूम सी गुजारिश, किसका मन नहीं पिघलाती होगी भला. हम बहनों के लिए साल में एक दिन आने वाले पर्व पर हर साल, हर हाल में भाई को उपस्थि‍त रहने की भावों से भरी यह अरज, शायद भाई की आंखे नम करने के लिए काफी है. ‘अंजान’ फिल्म के इस गाने को लता मंगेशकर ने अपनी आवाज दी है.

ये भी पढ़ें- ‘कार्तिक-वेदिका’ की शादी की फोटोज देख भड़के फैंस

इसे समझो ना रेशम का तार भईया..

सच ही तो हैं इस गाने के शब्द. एख बहन के लिए राखी का मतलब सिर्फ एक धागा नहीं भाई के लिए प्यार होता है. ‘तिरंगा’ फिल्म का ये गाना भाई और बहन के बीच के प्यार को दर्शाता है.

इस रक्षाबंधन आप अपने भाई से तोहफा लेना ना भूलें और उन्हें तोहफें में ये गीत गा कर सुनाएं. निश्चित ही यह राखी आपके और आपके भाई के लिए यादगार बन जाएगा.

Tags:
COMMENT