लॉक डाउन में मानव जन-जीवन में बड़ी बदलाव आया है. शहर के बाजार से गाँव के हार्ट तक सब बंद है. लॉक डाउन में दुनिया के अधिकतर काम घर से ही हो रहे है, इस तरह दुनिया भर में ऑनलाइन का सफर जोरो पर है. यह सफर उनके लिए आसान है, जो पहले से इंटरनेट से परिचित है और उसके उपयोग से परिचित है . उसके लिए यह  युग खास बनकर उभरा है, लेकिन जिन्होंने आज तक इंटरनेट का बस नाम सुना है कोई उपयोग नहीं  किया है, उनके लिए यह योग एक संघर्ष का युग है, तो आइये जानते है किसके लिए ऑनलाइन खास है तो किसके लिए मुश्किल भरा.

1. कई क्षेत्र जहां ऑनलाइन कामकाज संभव नहीं है

आज भी कई क्षेत्र ऐसे हैं, जहां ऑनलाइन कामकाज संभव नहीं है . इंजीनियरिंग, निर्माण क्षेत्र, चिकित्सा, पर्यटन आदि कई सेक्टरों के कामकाज मोटे तौर पर ऑनलाइन नहीं हो सकता है. आधारभूत सुविधा प्रदान करने वाले कार्य जैसे- सड़क निर्माण, सामुदायिक भवन निमार्ण , पंचायतो में तालाब और अन्य जल स्रोतों का निर्माण या मरम्मत कार्य ऑनलाइन संभव नहीं है. हालांकि इधर वर्चुअल टूरिज्म को साकार करने की कोशिशें भारत में भी हो रही हैं, जिसका मकसद फौरी तौर पर दुनिया भर के पर्यटकों को घर बैठे भारत दर्शन कराना है .

ये भी पढ़ें- #coronavirus: अब एंटी-वायरस कार

2. कई क्षेत्र जहां ऑनलाइन कामकाज में कोई खास दिक्कत नहीं है

ऐसे क्षेत्र में ऑनलाइन कामकाज संभव है,  आईटी सेक्टर तो काफी समय से ऐसे इंतज़ामों को आज़मा रहा है, पर कई तरह के वित्तीय, पेटेंट, कानूनी सलाह, लेखन-पत्रकारिता आदि नई शैली के कामकाज में भी साबित हुआ है कि इनके लिए दफ्तर जाने की ज्यादा ज़रूरत नहीं है . इनसे जुड़े ज्यादातर कामकाज घर बैठे ही निपटाए जा सकते हैं . तेज़ ब्रॉडबैंड और वेबकैम जैसी आधुनिक तकनीकें भी मददगार साबित हो रही हैं .

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 2000 से ज्यादा कहानियां
  • ‘कोरोना वायरस’ से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • हेल्थ और लाइफ स्टाइल के 3000 से ज्यादा टिप्स
  • ‘गृहशोभा’ मैगजीन के सभी नए आर्टिकल
  • 2000 से ज्यादा ब्यूटी टिप्स
  • 1000 से भी ज्यादा टेस्टी फूड रेसिपी
  • लेटेस्ट फैशन ट्रेंड्स की जानकारी
Tags:
COMMENT